Tuesday, 24 September 2013

एनएसईएलः छठवीं बार डिफॉल्ट का खतरा

नेशनल स्पॉट एक्सचेंज मामले पर अरविंद मायाराम कमेटी ने अपनी रिपोर्ट वित्त मंत्री को सौंपी दी है। लेकिन सीएनबीसी आवाज को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक इस रिपोर्ट में ऐसा कुछ नहीं कहा गया है जिससे कि पूरे मामले की जांच में कोई ठोस कार्रवाई हो।

हालांकि फॉरवार्ड मार्केट कमीशन (एफएमसी) को ये जिम्मेदारी सौंपी गई है कि वो इस बात की जांच करे कि फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी फिट एंड प्रॉपर की शर्तों पर खरा उतरता है या नहीं। सूत्रों के मुताबिक रिपोर्ट में प्रोमोटरों के फिट एंड प्रॉपर होने पर गंभीर सवाल उठ खड़े हुए हैं।

एफएमसी जल्द फाइनेंशियल टेक, एमसीएक्स के 3 डायरेक्टरों को कारण बताओ नोटिस भेज सकता है। हम आपको बता दें कि एनएसईएल का आज 6वां पे-आउट है, एक्सचेंज को 174 करोड़ रुपये चुकाने हैं लेकिन एक्सेंज के पास 11.25 करोड़ रुपये ही है।

मायाराम कमेटी की रिपोर्ट में एनएसईएल को लेकर कोई बड़े और कड़े कदम की सिफारिश नहीं की गई है। मायाराम कमेटी की रिपोर्ट में करीब 5 कानूनों के उल्लंघन की बात सामने आई है। रिपोर्ट में मनी लॉन्डरिंग, फेमा, आयकर कानून, एफसीआरए और कंपनी लॉ के उल्लंघन की बात कही गई है।

माना जा रहा है कि संबंधित एजेंसियों की ओर से इन कानूनों के तहत कार्रवाई की जाएगी। एफएमसी, ईडी, एसएफआईओ और आयकर विभाग अपनी जांच में तेजी लाएंगे। लेकिन एनएसईएल मामले की जांच लंबी चलने की आशंका है और दोषियों पर तुरंत कार्रवाई की संभावना कम है।

एनएसईएल मामले में बड़े सवाल ये भी उठे हैं कि जांच काफी लंबी खींच रही है। एनएसईएल के पास चुकाने का पैसा कहां से आएगा। एनएसईएल मामले में सरकार का रुख काफी नरम रहा है।

No comments:

Post a Comment

Blogroll